Bulati Hai Magar Jane Ka Nai Shayari | Rahat Indori Shayari

0
138
Bulati Hai Magar Jane Ka Nahi Shayari | Rahat Indori Shayari

बुलाती है मगर जाने का नहीं
ये दुनिया है इधर जाने का नहीं.

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुज़र जाने का नहीं.

ज़मीं भी सर पे रखनी हो तो रखो
चले हो तो ठहर जाने का नहीं.

सितारे नोच कर ले जाऊंगा
मैं खाली हाथ घर जाने का नहीं.

वबा फैली हुई है हर तरफ
अभी माहौल मर जाने का नहीं.

वो गर्दन नापता है नाप ले
मगर जालिम से डर जाने का नहीं .

-राहत इंदौरी

Bulati Hai Magar Jane Ka Nai in Hindi

Bulati hai magar jaane ka nai
Ye duniya hai idhar jaane ka nai

Mere bete kisi se ishq kar
Magar had se guzar jaane ka nai

Zameen bhi sar pe rakhni ho to rakkho
Chale ho toh thehar jaane ka nai

Sitare noch kar le jaaunga
Main khaali haath ghar jaane ka nai

Waba faili hui Hai har taraf
Abhi Maahol mar Jaane ka nai

Wo gardan naapta hai, naap le
Magar zaalim se dar jaane ka nai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here